पूनिया हत्याकांड का आरोपी फिर 2 दिन के रिमांड पर, गत 21 दिसम्बर को घर से लापता हुआ था मृतक

1/21/2021 8:26:07 AM

यमुनानगर : सैक्टर-17 गढ़ी मुंडो निवासी अनिल पूनिया हत्याकांड में आरोपी को 7 दिन के रिमांड के बाद बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया। जहां पुलिस ने एक बार फिर आरोपी नाहरपुर निवासी रफाकत को 2 दिन के रिमांड पर लिया ताकि उससे हत्याकांड से संबंधित ओर जानकारी हासिल की जा सके। पुलिस को अभी और भी जानकारी दे सकते हैं जिसके चलते पुलिस ने दूसरी बार आरोपी को रिमांड पर लिया। 

वहीं अनिल के परिजनों का कहना है कि पुलिस आरोपी की पत्नी व भाई से भी सख्ती से पूछताछ करे क्योंकि ये लोग भी हत्याकांड में शामिल हो सकते हैं। आरोपी की पत्नी ने आरोपी के खून से खराब हुए कपड़ों को धोने का काम किया ताकि सबूत नष्ट किए जा सके तथा आरोपी के भाई के खाते में रफाकत ने 4 लाख रुपए जमा करवाए जिनमें से 1 दिन की पूछताछ के बाद उसके खाते से डेढ़ लाख रुपए निकाले भी गए। अब सवाल यह उठता है कि यह डेढ़ लाख रुपए किस लिए और क्यों निकाले गए। कुछ ऐसे अन सुलझे प्रश्न हैं जिनके उत्तर भी पुलिस को चाहिए इसीलिए पुलिस ने 2 दिन के रिमांड पर आरोपी को ले लिया है।

अनिल के भाई डा. सुनील पूनिया ने बताया कि अब देखना यह है कि 2 दिन के बढ़े रिमांड में आरोपी और क्या मानता है। अभी तक भी उनके भाई का शव बरामद नहीं हुआ है। हो सकता है आरोपी ने उसे मारकर कहीं दफना दिया हो। यह राज तो रिमांड के दौरान ही खुल सकते हैं। वैसे आरोपी का कहना है कि उसने अनिल पूनिया को मारकर नहर में धक्का दिया था। 

4 लाख रुपए भाई के खाते में भी करवाए थे जमा
21 दिसम्बर की शाम को अनिल अपने घर से निकला और करीब 7 बजे तक उसकी लोकेशन मोबाइल के अनुसार गांव नाहरपुर में पाई गई। करीब रात साढ़े 11 बजे उसका मोबाइल बंद हो गया। उसके घर वापस न आने पर परिजनों ने उसे ढूंढना शुरू किया व 2 दिन बाद पुलिस में मामला भी दर्ज करवाया। पुलिस में कोई संतोषजनक कार्रवाई न होने पर परिजनों ने थाने से इस मामले को सी.आइ.ए. में ट्रांसफर करवाया और तमाम साक्ष्य जो भी उनके पास थे, वे पुलिस को उपलब्ध करवाए। पुलिस को दी शिकायत में बताया कि अनिल ने रफाकत तो करीब 8 से 10 लाख रुपए तक उधार दिए हुए थे और उन्हीं पैसे को देने के मामले को लेकर रफाकत ने उसकी हत्या की है। इन पैसों में से 4 लाख रुपए रफाकत ने अपने भाई भूरा के खाते में जमा करवाए थे। पुलिस ने रफाकत को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। रफाकत ने ही यह जानकारी दी कि उसने अपने भाई के खाते में 4 लाख रुपए जमा करवाए व अनिल को मारकर नहर में गिरा दिया। पुलिस ने भूरा को भी हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की। जिस दिन पुलिस ने उसे हिरासत में लिया उसी दिन उसके खाते से डेढ़ लाख रुपए भी निकले। यह पैसे किसने और किसलिए निकाले इस पर भी प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है। परिजनों का कहना है कि रफाकत के भाई व उसकी पत्नी का भी इस हत्याकांड में हाथ है और उनसे भी सख्ती से पूछताछ की जानी चाहिए। 

अभी तक अनिल के बारे नहीं मिली कोई जानकारी
जिस दिन से परिजनों को पता लगा है कि अनिल को मारकर रफाकत ने नहर में धकेल दिया है उसी दिन से परिजन उसके शव की तलाश में यमुनानगर से दिल्ली तक कर रहे हैं। अभी तक इस दिशा में कोई भी सुराग परिजनों के हाथ नहीं लगा। नहर के साथ-साथ लगते जितने भी थाने हैं पुलिस ने उन सबमें इसकी सूचना दे दी है ताकि किसी भी प्रकार की कोई जानकारी हो तो स्थानीय पुलिस के साथ शेयर की जा सके। डा. सुनील पूनिया ने बताया कि वे लगातार अनिल की तलाश में हैं लेकिन उन्हें इस दिशा में कोई भी सकारात्मक सुराग हाथ नहीं लग रहा है। अब पुलिस ने 2 दिन के लिए रफाकत को और रिमांड में लिया है जिससे उन्हें उम्मीद है कि 2 दिन में रफाकत शायद इस दिशा में कोई खुलासा करे और उन्हें इस दिशा में कोई जानकारी मिले। 


Manisha rana

Related News