स्टडी वीजा पर आए अफगानी छात्रों के लिए खड़ी हुई नई मुसीबत, सरकार से कर रहे उम्मीद

punjabkesari.in Tuesday, Aug 17, 2021 - 06:18 PM (IST)

कुरुक्षेत्र  (रणदीप रोड़): कुरुक्षेत्र में स्टडी वीजा पर आए सैकड़ों अफगानी छात्रों की मुसीबत बढ़ गई है। मसलन मोहम्मद नदीम मजार शरीफ (एमबीए), हबीबुल्लाह सिविल इंजीनियर (एन.आई.टी कुरुक्षेत्र), जॉवजान के रहने वाले, आरिफा इब्राहीमी (एमएससी -बॉटनी) अफगानिस्तान के गजनी की रहने वाली, यह उन सैकड़ों नामों में से चंद युवा हैं जो अपने वतन अफगानिस्तान फिलहाल नहीं जा सकते, क्योंकि वहां के हालात खराब हैं।

इनके परिवार अफगानिस्तान में गोलियों के साए में अपनी जिंदगी की लड़ाई लड़ रहे हैं, तो वहीं हजारों मील दूर हिंदुस्तान में ये लोग अब नई मुसीबत में हैं। दरअसल, इनके वीजा की अवधि 31 अगस्त को खत्म होने वाली है और पैसे भी खत्म होने के कगार पर हैं। ऐसे में इनको ये सवाल सता रहा है कि अब ये जाएं तो कहां जाएं?

मोहम्मद नदीम मजार शरीफ व हबीब उल्ला कहते हैं कि वीजा खत्म होने को है, पैसा बचा नहीं, मुल्क जा नहीं सकते क्योंकि फ्लाइट बंद हैं और ऐसे में दोराहे पर खड़े युवक अब सरकार की तरफ देख रहे हैं। यह युवक कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी प्रशासन से किसी और कोर्स में दाखिला चाहते हैं, लेकिन वह भी बिना पैसे का क्योंकि अब इनके पास न खाने के पैसे हैं और न फीस भरने के। 

वहीं बॉटनी की एक छात्रा जो गजनी के रहने वाली है, वह तालिबानियों के महिलाओं पर किए गए जुल्मों को याद कर सिहर उठती है। उसका कहना है कि वह हिंदुस्तान में ही रहेगी, चाहे कुछ भी हो जाए, जब तक हालात सामान्य नहीं होते वह गजनी यानी अफगानिस्तान नहीं जाएगी। उसका कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उम्मीद रखती है।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static